Monday , 22 July 2019
Home / Tag Archives: bhautik vigyaan

Tag Archives: bhautik vigyaan

न्युटन के प्रथम नियम के उदाहरण

न्यूटन का गति का प्रथम नियम ( Newton ‘ s First Law of Motion ) यदि कोई वस्तु विरामावस्था में है , तो वह विरामावस्था में ही रहेगी और यदि एकसमान रेखीय गति कर रही है तो एकसमान रेखीय गति करती रहेगी , जब तक की उस पर कोई बाह्य बल न लगाया जाए । F = 0 , V …

Read More »

घर्षण

घर्षण ( Friction ) घर्षण कोई वस्तु जब किसी दूसरी वस्तु की सतह पर फिसलती या लुढ़कती है या ऐसा करने का प्रयास करती है , तो उनके मध्य होने वाली आपेक्षिक गति का विरोध करने वाले बल को घर्षण ( Friction ) कहते हैं । घर्षण बल सम्पर्क में आने वाले दो पृष्ठों की अनियमितताओं ( Irregularities ) के कारण …

Read More »

चाल एवं वेग

चाल एवं वेग कोई वस्तु एकांक समय में जितनी दूरी तय करती है , वह उसकी चाल ( Speed ) है और कोई वस्तु एकांक समय में किसी निश्चित दिशा में जितनी दूरी तय करती है या विस्थापित होती है , उसे उस वस्तु का वेग ( Velocity ) कहते हैं । चाल एक अदिश राशि है , जबकि वेग …

Read More »

त्वरण किसे कहते है

त्वरण किसे कहते है त्वरण ( Acceleration ) – किसी गतिशील वस्तु के वेग में एक सेकण्ड में होने वाली वृद्धि अर्थात् वेग परिवर्तन की धनात्मक दर को त्वरण कहते हैं । मात्रक = किग्रा-मीटर/सेकण्ड या न्युटन सेकण्ड त्वरण एकसमान या असमान हो सकते हैं । यह एक सदिश राशि है । इसका मात्रक मीटर / सेकण्ड2 होता है अर्थात् …

Read More »

दुरी एवं विस्थापन

दुरी एवं विस्थापन किसी गतिमान कण या वस्तु द्वारा किसी मार्ग पर चली गई कुल लम्बाई को कण या वस्तु द्वारा चली गई दूरी ( Distance ) कहते हैं , जबकि कण की अन्तिम स्थिति तथा प्रारम्भिक स्थिति के अन्तर को कण का विस्थापन ( Displacement ) कहते हैं । चित्र में प्रदर्शित AB ( A से B तक ) …

Read More »

गति

गति और उसके प्रकार

गति और गति के प्रकार यदि कोई वस्तु अन्य वस्तुओं की तुलना में समय के सापेक्ष में स्थान परिवर्तन करती है, तो वस्तु की इस अवस्था को गति (motion/मोशन) कहा जाता है। गति मुख्यतः निम्न प्रकार की होती है रेखीय गति ऐसी गति जिसमें कण या पिण्ड , एक सरल रेखा के अनुदिश गतिमान हो रेखीय गति ( Linear Motion ) कहलाती …

Read More »

सार्थक अंक

सार्थक अंक किसी भौतिक राशि की माप सार्थक अंकों ( Significant Digits ) की संख्या से निर्धारित की जाती है अथवा अंकों की वह संख्या जिसके द्वारा किसी राशि को निश्चित रूप से व्यक्त करते हैं , सार्थक अंक कहलाती है । किसी माप में सार्थक अंकों के सन्दर्भ में मुख्य बातें निम्नलिखित हैं मात्रक बदलने से सार्थक अंकों की …

Read More »