Monday , 27 May 2019
Breaking News

सार्थक अंक

सार्थक अंक

किसी भौतिक राशि की माप सार्थक अंकों ( Significant Digits ) की संख्या से निर्धारित की जाती है अथवा अंकों की वह संख्या जिसके द्वारा किसी राशि को निश्चित रूप से व्यक्त करते हैं , सार्थक अंक कहलाती है । किसी माप में सार्थक अंकों के सन्दर्भ में मुख्य बातें निम्नलिखित हैं

  1. मात्रक बदलने से सार्थक अंकों की संख्या अपरिवर्तित रहती है ।
  2. दशमलव की स्थिति का सार्थक अंकों की संख्या पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है ; जैसे — 8 . 2 सेमी को यदि मिमी में व्यक्त करें , तो 82 मिमी लिखेंगे , परन्तु दोनों में दो ही सार्थक अंक हैं ।

महत्वपूर्ण उपसर्ग

उपसर्ग संकेत गुणांक
एक्सा ( Exa ) E 1018
पीटा ( Peta ) P 1015
टेरा ( Tera ) T 1012
गीगा ( Giga ) G 109
मेगा ( Mega ) M 106
डेसी ( Deci ) d 10-1
सेंटी ( Centi ) c 10-2
मिली ( Milli ) m 10-3
माइक्रो ( Micro ) μ 10-6
नैनो ( Nano ) n 10-9
पिको ( Pico ) p 10-12
फेम्टो ( Femto ) f 10-15
ऐटो ( Atto ) a 10-18

इन उपसर्गों को लगाकर किसी राशि के साथ जुड़ी 10 की घातों को हटा दिया जाता है ; जैसे – 2.0 x 10-9 मी को 2.0 नैनोमीटर या 4.5 x 109 किलोग्राम को 4.5 गीगा ग्राम कहते हैं ।

दशमलव वाली संख्या में यदि दशमलव बिन्दु के पहले कोई अशून्य अंक नहीं है , तो दशमलव बिन्दु के बाद आने वाले अशून्य अंक से पहले तक के सभी शून्य सार्थक अंक नहीं होते हैं । जैसे 0.003048 में सार्थक अंकों की संख्या चार होगी ।

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *