Tuesday , 21 May 2019
Breaking News

दुरी एवं विस्थापन

दुरी एवं विस्थापन

किसी गतिमान कण या वस्तु द्वारा किसी मार्ग पर चली गई कुल लम्बाई को कण या वस्तु द्वारा चली गई दूरी ( Distance ) कहते हैं , जबकि कण की अन्तिम स्थिति तथा प्रारम्भिक स्थिति के अन्तर को कण का विस्थापन ( Displacement ) कहते हैं ।

दुरी एवं विस्थापन

चित्र में प्रदर्शित AB ( A से B तक ) विस्थापन है , जहाँ AB ( वक्र पथ ) , किसी वस्तु द्वारा A से B तक पहुँचने के क्रम में चली गई दूरी को निर्दिष्ट करता है । यहाँ , AB एक सदिश तथा AB एक अदिश को दर्शाते हैं ।

दूरी = चाल x समय

तथा

विस्थापन = वेग x समय

उत्तोलक (Lever)

दूरी अदिश राशि है , जबकि विस्थापन सदिश राशि है । SI पद्धति में दोनों राशियों का मात्रक ‘ मीटर होता है । दूरी सदैव धनात्मक या शून्य हो सकती है , जबकि कण का विस्थापन शून्य , धनात्मक या ऋणात्मक भी हो सकता है । गतिमान कण के लिए दूरी , समय के साथ कभी नहीं घट सकती , जबकि विस्थापन समय के साथ घट सकता है ।

नोट दूरी के मापन के लिए ओडोमीटर ( Odometer ) का प्रयोग किया जाता है ।

महत्त्वपूर्ण बिन्दु

  1. किसी सरल रेखा में गतिमान वस्तु के कोणीय वेग सम्भव हो सकते हैं , परन्तु इसकी कुछ विशेष परिस्थितियाँ हैं ।
  2. रेखीय तथा कोणीय दोनों ही प्रकार की गतियाँ समरूप तथा असमरूप हो सकती हैं ।
  3. यदि कोई वस्तु समान समय में एक निश्चित कोण से समान दूरी से विस्थापित होती है , तो इसकी गतियाँ क्रमशः समरूप रेखीय गति या समरूप कोणीय गति कहलाएँगी तथा इसके प्रतिकूल असमरूप गतियाँ कहलाएँगी ।

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *