Wednesday , 24 July 2019

गति

गति और गति के प्रकार

गति

यदि कोई वस्तु अन्य वस्तुओं की तुलना में समय के सापेक्ष में स्थान परिवर्तन करती है, तो वस्तु की इस अवस्था को गति (motion/मोशन) कहा जाता है।

गति मुख्यतः निम्न प्रकार की होती है

रेखीय गति

ऐसी गति जिसमें कण या पिण्ड , एक सरल रेखा के अनुदिश गतिमान हो रेखीय गति ( Linear Motion ) कहलाती है ; जैसे – सीधी सड़क पर चलता हुआ घोड़ा , बन्दूक से निकली हुई गोली इत्यादि ।

कोणीय गति

ऐसी गति जिसके कारण कण का स्थिति सदिश तथा अक्ष के बीच के कोणों के मान बदल रहे हों ( अर्थात् गति का पथ वक्राकार हो ) , कोणीय गति ( Angular Motion ) कहलाती है ।

सरल आवर्त गति

घूर्णन गति

जब कोई पिण्ड किसी स्थिर अक्ष के परितः इस प्रकार गति करता है कि पिण्ड का प्रत्येक कण वृत्तीय पथ पर चलता है एवं समस्त वृत्तीय पथों का केन्द्र उसके अक्ष पर होता है , तो पिण्ड की गति घूर्णन गति ( Rotational Motion ) कहलाती है ; जैसे – आटा पीसने के पाट की गति , लट्टू की गति आदि ।

वृत्तीय गति

जब कोई कण किसी निश्चित बिन्दु को केन्द्र मानकर उसके चारों ओर वृत्तीय पथ पर गति करता है , तो उसकी गति वृत्तीय गति ( Circular Motion ) कहलाती है ; जैसे – घड़ी की सुई की नोंक की गति , सूर्य के चारों ओर पृथ्वी की गति आदि । यदि कण की चाल अचर हो , तो वृत्तीय पथ पर उसकी गति एकसमान वृत्तीय गति ( Uniform Circular Motion ) कहलाती है । यदि कण की चाल चर हो , तो गति असमान वृत्तीय गति ( Non – uniform Circular Motion ) कहलाती है ।

कम्पनिक गति

जब कोई पिण्ड किसी निश्चित बिन्दु के इधर – उधर ( To and Fro ) गति करता है , तो उसकी गति कम्पनिक गति ( Vibratory Motion ) कहलाती है ; जैसे – घड़ी के लोलक की गति , स्प्रिंग से लटके पिण्ड की गति आदि ।

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *