Wednesday , 24 July 2019
Home / सामान्य ज्ञान / विज्ञान / रसायन विज्ञान / आवर्त सारिणी की उपयोगिता

आवर्त सारिणी की उपयोगिता

आवर्त सारिणी की उपयोगिता

आवर्त सारिणी की उपयोगिता निम्नलिखित प्रकार से है –

1 . आवर्त सारिणी तत्वों के वर्गीकरण की एक सरल योजना है । इसकी सहायता से रसायन का अध्ययन 9 वर्गों में व्यवस्थित हो गया है जिससे कि इसका अध्ययन बहुत सरल हो गया है ।
2 . सारिणी बनाते समय मेंडलीफ ने कुछ स्थान खाली छोड़ दिये थे । उसका विचार था कि स्थानों पर आने वाले उचित तत्व अभी आविष्कृत नहीं हुए तथा इसके बारे में उसने भविष्यवाणी भी की । बाद में रसायनज्ञों ने आविष्कार आरम्भ किया तथा तत्वों की खोज हुई । उनके गुण नही थे , जिनका अनुसार मेंडलीफ लिख गया था । गेलियम , जर्म नियम , एक – एल्यूमिनियम , एका – सिलिकॉन ऐसे नये तत्त्व खोजे गए ।
3 . आवर्त सारिणी में वर्गों द्वारा तत्वों की संयोजकता का भी ज्ञान होता है । संयोजकता को तत्व के तुल्यांकी भार ( Equivalent weight ) से गुणा करके उसका परमाणु भार मालूम किया जाता है ।

मेंडलीफ आवर्त सारिणी में त्रुटियाँ

4 . आवर्त सारिणी में मेंडलीफ ने कहा कि कुछ तत्वों को उनके गुण – धर्मों के अनुसार जो स्थान मिलना चाहिए था , वह नहीं मिला । उन्हें अन्य स्थानों में रखा गया तथा यह भी घोषित किया कि इनका परमाणु – भार भी ठीक नहीं है । बाद में यह सत्य सिद्ध हुआ । इस प्रकार बेरोलियम , सीज़ियम , यूरेनियम , प्लैटिनम के परमाणु भारों में सुधार करके उन्हें सही स्थान दिया गया ।
5 . आवर्त सारिणी पर दृष्टिपात करते ही तत्त्वों के गुण – धर्मों के बारे में जानकारी प्राप्त होती है । यह रासायनिक तथा धातु कर्म – सम्बन्धी अनुसंधानों में बहुत उपयोगी सिद्ध हुई है ।

 

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *