Tuesday , 16 July 2019
Home / सामान्य ज्ञान / इतिहास / यूनानी – रोमन लेखक

यूनानी – रोमन लेखक

यूनानी रोमन लेखक से मिलनेवाली प्रमुख जानकारी

टेसियस

यह ईरान का राजवैद्य था । भारत के संबंध में इसका विवरण आश्चर्यजनक कहानियों से परिपूर्ण होने के कारण अविश्वसनीय है ।

हेरोडोटस

इसे ‘ इतिहास का पिता ‘ कहा जाता है । इसने अपनी पुस्तक हिस्टोरिका में 5वीं शताब्दी ईसा पूर्व के भारत – फारस के संबंध का वर्णन किया है । परन्तु इसका विवरण भी अनुश्रुतियों एवं अफवाहों पर आधारित है ।

सिकन्दर के साथ आनेवाले लेखकों में निर्वाकिस , आनेसिक्रटस तथा आस्टिोबुलस के विवरण अधिक प्रामाणिक एवं विश्वसनीय हैं ।

मेगास्थनीज

यह सेल्युकस निकेटर का राजदूत था , जो चन्द्रगुप्त मौर्य के राजदरबार में आया था । इसने अपनी पुस्तक इण्डिका में मौर्य युगीन समाज एवं संस्कृति के विषय में लिखा है ।

डाइमेकस

यह सीरियन नरेश आन्तियोकस का राजदूत था , जो बिन्दुसार के राजदरबार में आया था । इसका विवरण भी मौर्य – युग से संबंधित है ।

डायोनिसियस

यह मिस्र नरेश टॉलमी फिलेडेल्फस का राजदूत था , जो अशोक के राजदरबार में आया था ।

टॉलमी

इसने दूसरी शताब्दी में ‘ भारत का भूगोल ‘ नामक पुस्तक लिखी ।

प्लिनी

इसने प्रथम शताब्दी में ‘ नेचुरल हिस्ट्री ‘ नामक पुस्तक लिखी । इसमें भारतीय पशुओं , पेड़ – पौधों , खनिज पदार्थों आदि के बारे में विवरण मिलता है ।

पेरीप्लस ऑफ द इरिथ्रयन सी

इस पुस्तक के लेखक के बारे में जानकारी नहीं है । यह लेखक करीब 80 ई . में हिन्द महासागर की यात्रा पर आया था । इसने उस समय के भारत के बन्दरगाहों तथा व्यापारिक वस्तुओं के बारे में जानकारी दी है ।

यूनानी – रोमन लेखक की मदद से भारत के इतिहास की  बहुत जानकारी प्राप्त हुई है ।

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *