Thursday , 23 May 2019
Breaking News
Home / सामान्य ज्ञान / इतिहास / मौर्योत्तर काल

मौर्योत्तर काल

मौर्योत्तर काल ( Later Maurya Age )

मौर्योत्तर काल
अशोक की मृत्यु के बाद धीरे – धीरे मौर्य साम्राज्य का पतन होने लगा । 185 ई . पू . में अन्तिम मौर्य शासक बृहद्रथ की हत्या उसके महासेनापति ने पुण्यमित्र शुंग ने कर दी तथा शुंग वंश की नींव रखी ।
शुंग वंश ( Shunga Dynasty )
शुंग ब्राह्मण वंशीय शासक थे । इस राजवंश का अन्तिम राजा देवभूति था ।
  • भरहुत स्तूप का निर्माण पुष्यमित्र शुंग ने करवाया था ।
  • इंडो – यूनानी शासक मिनांडर को पुष्यमित्र शुंग ने पराजित किया था ।
  • शुंग शासकों ने अपनी राजधानी विदिशा में स्थापित की थी ।

कण्व वंश ( Kanva Dynasty )

अन्तिम शुंग शासक देवभूति की हत्या कर 73 ई . पू . में वासुदेव ने कण्व वंश की स्थापना की । इस वंश के चार राजाओं – वासुदेव भूमिमित्र , नारायण तथा सुशर्मा ने लगभग 45 वर्ष तक शासन किया ।
आन्ध्र सातवाहन वंश ( Andhra – Satvahana Dynasty )
सुशर्मा कण्व के सेनापति सिमुक ने 27 ई . पू . में उसका वध कर सातवाहन वंश की नींव डाली । सिमुक शतकर्णि , गौतमीपुत्र शतकर्णि , वसिष्ठीपुत्र , पुलुमावी तथा यज्ञश्री शतकर्णि इस वंश के प्रमुख शासक थे , जिन्होंने लगभग 250 ई . तक शासन किया । यज्ञश्री शतकर्णि इस वंश का अन्तिम महत्त्वपूर्ण शासक था ।
  • गौतमी पुत्र शतकर्णी ( 106 – 130 ई . ) इस वंश का सर्वाधिक महान शासक था ।
  • सातवाहन शासक ‘ हाल ‘ ने ‘ गाथासप्तशती ‘ नामक ग्रंथ की रचना की थी ।
  • इस काल में ताँवे , काँसे के अलावा शीशे के सिक्के काफी प्रचलित थे ।

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *