Tuesday , 16 July 2019
Home / सामान्य ज्ञान / इतिहास / धार्मिक आन्दोलन

धार्मिक आन्दोलन

धार्मिक आन्दोलन (Religious Movements)

धार्मिक आन्दोलन
ब्राह्मणवाद के विरुद्ध प्रतिक्रिया के रूप में छठी शताब्दी ई . पू . दो सम्प्रदायों का उदय हुआ ।
यथा — जैन धर्म तथा बौद्ध धर्म ।

जैन धर्म

जैन धर्म ( Jainism )

जैन धर्म की स्थापना ऋषभदेव ने की जो जैनधर्म के प्रथम तीर्थकर माने जाते हैं । जैनधर्म की स्थापना का वास्तविक श्रेय 24वें तीर्थकर वर्धमान महावीर को जाता है ।

  • 24 वें व अंतिम तीर्थकर महावीर स्वामी का जन्म वैशाली के निकट कुण्डग्राम ( वाज्जिसंघ का गणतन्त्र ) में 540 ई . पू . में हुआ था । इनके बचपन का नाम वर्धमान था ।
  • महावीर स्वामी के पिता सिद्धार्थ तथा माता त्रिशला , जो लिच्छिवी के राजा चेटक की बहन थी ।
  • महावीर स्वामी का विवाह यशोदा के साथ हुआ था । इनकी पुत्री का नाम अनोज्जा ( प्रियदर्शना ) तथा दामाद का नाम जमालि था ।
  • महावीर स्वामी को 12 वर्ष की गहन तपस्या के बाद जुम्भिकग्राम के समीप ऋजुपालिका नदी के तट पर साल वृक्ष के नीचे सर्वोच्च ज्ञान ( कैवल्य ) की प्राप्ति हुई । इसी समय महावीर स्वामी जैन ( विजेता ) , | अर्हत ( पूज्य ) तथा निर्गन्ध ( बंधनहीन ) कहलाए ।
  • जैन धर्म के 23वें तीर्थंकर पाश्र्वनाथ द्वारा प्रतिपादित चार महाव्रत – सत्य , अहिंसा , अपरिग्रह तथा अस्तेय में महावीर स्वामी ने पाँचवाँ ब्रह्मचर्य जोड़ा ।
  • जैन धर्म दो पथों में बँटा – श्वेताम्बर ( श्वेत वस्त्र धारण करने वाले ) , दिगम्बर ( नग्न रहने वाले ) ।
  • लगभग 72 वर्ष की आयु में 468 ई . पू . में महावीर स्वामी की राजगृह के समीप पावापुरी ( राजगीर ) में मृत्यु हो गई ।
  • जैन धर्म के त्रिरत्न हैं – सम्यक् दर्शन , सम्यक ज्ञान , सम्यक आचरण

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *