Thursday , 18 July 2019
Home / सामान्य ज्ञान / इतिहास / मुहम्मद तुगलक की नीति के परिणाम

मुहम्मद तुगलक की नीति के परिणाम

मुहम्मद तुगलक की नीति और विचित्र योजनाओं के परिणाम ( Results of Muhammad Tughlak’s Policy and Plans )

मुहम्मद तुगलक ने बहुत सी योजनाएं बनाई , परन्तु उनमें से एक भी पूर्ण न हुई । इस तरह उसकी नीति तथा योजनाओं के निम्नलिखित परिणाम निकले. मुहम्मद तुगलक की नीति के परिणाम :—

धन की क्षति ( Loss of Money )

मुहम्मद की योजनाओं से धन की बहुत क्षति हुई । राजधानी परिवर्तन से ताम्बे के सिक्के प्रचलित करने तथा विश्व विजय के लिए भारी सेना तैयार करने में सुलतान का बहुत धन खर्च हुआ और इस तरह खज़ाना खाली हो गया था ।

लोगों के कष्टों में वृद्धि ( Increase in the Miseries of the People )

दोआब में भूमि कर बढ़ाने से केवल बहुत सी भूमि ही नहीं उजड़ी बल्कि बहुत से लोग वनों में भाग गए । लोगों को सुलतान की दूसरी योजनाओं ने भी दु : ख दिया । लोगों को जीवन का सुख लुप्त हुआ अनुभव होता ।

भूमि का उजड़ना ( Infertility of Land )

दोआब के किसानों पर भूमि कर बढ़ाने से और वहां अकाल पड़ने से वे लोग बहुत दुःखी हुए ; इसलिए वे कृषि करना छोड़कर वनों में भाग गए थे । ऐसी स्थिति में भूमि को नष्ट हो जाना स्वाभाविक था । इससे भी सुल्तान को बहुत क्षति हुई ।

मुहम्मद तुगलक़ का राज्य प्रबन्ध

मंगोलों के आक्रमणों में वृद्धि ( Increase in the number of Mongol Invasions )

मुहम्मद तुगलक ने मंगोलों से युद्ध न किया बल्कि वह उन्हें धन देकर लौटा देता था । इस तरह उनका लालच बढ़ गया और उन्होंने आक्रमण तीव्र कर दिए ।

विद्रोह ( Revolts )

मुहम्मद तुगलक की योजनाओं का परिणाम यह हुआ कि दूर – दूर प्रान्तों में विद्रोह आरम्भ हो गए । कई प्रान्त तो स्वतन्त्र भी हो गए । इसी तरह वह गुजरात का विद्रोह समाप्त करके लौट रहा था तो 20 मार्च , 1333 ई० में मुहम्मद तुगलक की मृत्यु हो गई ।

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *