Monday , 22 July 2019
Home / सामान्य ज्ञान / इतिहास / सूफी एवं भक्ति आन्दोलन

सूफी एवं भक्ति आन्दोलन

सूफी आन्दोलन ( Sufi Movement )

सूफी एवं भक्ति आन्दोलन

हसन बसरी को प्रथम सूफी संत और रबिया को प्रथम और अन्तिम महिला सूफी सन्त माना जाता है । चिश्ती सिलसिले के संस्थापक अबु अब्दाल चिश्ती थे , किन्तु भारत में इसका प्रचार प्रसार ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती ने किया । उनका मुख्य केन्द्र अजमेर था ।

सुहरावर्दी सम्प्रदाय का मुख्यालय मुल्तान ( पाकिस्तान ) में था तथा शिहाबुद्दीन उमर सुहरावर्दी इसके मुख्य प्रवर्तक थे , किन्तु भारत में इस सिलसिले के प्रवर्तन का श्रेय संत शेख बहाउद्दीन जकारिया को है।

कादिरिया सिलसिला के संस्थापक अब्दुल कादिर जिलानी थे । मुगल बादशाह शाहजहाँ का पुत्र दाराशिकोह कादिरी सिलसिले का अनुयायी था ।

ख्वाजा उबैदुल्ला नक्शबंदी , नक्शबन्दी सिलसिला के संस्थापक थे , लेकिन शेख अहमद फारुखी सरहिन्दी ने भारत में इसका प्रचार किया । अकबर के समय में इस सिलसिले की स्थापना हुई थी ।

हॉकी विश्व कप विजेता

भक्ति आन्दोलन ( Bhakti Movement )

इस आदोलन के प्रमुख प्रचारक शंकराचार्य माने जाते हैं ।

भक्ति आन्दोलन के प्रमुख सन्त ( Famous Saints of Bhakti Movement )

( i ) शंकराचार्य , ( ii ) रामानुजाचार्य , ( iii ) निम्बार्क , ( iv ) माधवाचार्य , ( १ ) वल्लभाचार्य , ( vi ) रामानन्द , ( vii ) कबीर , ( viii ) गुरु नानक , ( ii ) चैतन्य , ( 3 ) दादू दयाल , ( ii ) रविदास , ( vii ) शंकरदेव , ( xiii ) मीराबाई , ( ii ) सूरदास , ( iv ) तुलसीदास ।

महाराष्ट्र में भक्ति पंथ पण्डरपुर के देवता बिठोवा या बिटठल के मदिर के चारों ओर केन्द्रित था । बिठोवा को कृष्ण का अवतार माना जाता है । बिठोवा पंथ के तीन अनुयायी ज्ञानेश्वर , नामदेव एवं तुकाराम थे ।

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *