Monday , 27 May 2019
Breaking News
Home / सामान्य ज्ञान / इतिहास / शेरशाह की विजये

शेरशाह की विजये

शेरशाह की अन्य विजयें ( Other Conquests of Sher Shah )

मुगलों को परास्त करने के पश्चात् शेरशाह ने अन्य प्रदेशों को जीतने की ओर ध्यान दिया :—

पंजाब को विजय , 1541 ई० ( Conquest of Punjab , 1541 )

हुमायू पराजित होकर अपने भाई कामरान की ओर जिसके पास पंजाब का राज्य था , बढ़ा ; इसलिए शेरशाह को आशंका थी कि दोनों भाई मिलकर उसके मुकाबले के लिए खड़े न हो जाएं । शेरशाह 1541 ई० में सेना लेकर पंजाब की ओर बढ़ा । कामरान ने मुकाबला तो क्या करना था । वह भयभीत होकर काबुल भाग गया । शेरशाह ने आसानी से पंजाब पर अधिकार कर लिया ।

मालवा की विजय , 1542 ई० ( Conquest of Malwa )

शेरशाह सूरी के राज्य की सुरक्षा के लिए मालवा की विजय आवश्यक थी , इसलिए उसने 1542 ई० में मालवा पर आक्रमण किया । ग्वालियर के गवर्नर ने शेरशाह की अधीनता स्वीकार कर ली ।

रायसीन की विजय , 1543 ई० ( Conquest of Raisin )

रायसीन मध्य भारत में एक राज्य था जिस पर राजपूत सरदार पूरनमल ( Puran Mal ) का शासन था । शेरशाह को पता चला कि पूरनमल मुसलमानों पर शासन करना चाहता है और उनकी स्त्रियों को अंपनी दासियां बनाना चाहता है ; इसलिए शेरशाह उसे कड़ा दण्ड देना चाहता था । इस आशय की पूति के लिए शेरशाह ने मांडू ( Mandu ) की ओर से जाकर रायसीन के किले को घेर लिया । पूरनगद ने संधि के लिए प्रार्थना की । शेरशाह ने शर्त रखी कि यदि वह किला खाली कर दे तो उसकी जान बख्शी जा सकती है । पूरनमल को यह शर्त स्वीकार थी । जब पूरनमल उसका परिवार किले से बाहर आया तो शेरशाह ने उन पर आक्रमण कर दिया ।

शेरशाह ने उसके परिवार के साथ अतीव घृणित व्यवहार किया । पूरनमल की पुत्री तथा उसके तीन भतीजे तो जीवित पकड़ लिए गए । शेष सभी को मार डाला गया । पूरनमल की पुत्री को बाज़ार में नचाने के लिए बाजीगरों को दे दिया गया और उसके भतीजों को नपुसक बना दिया गया ताकि पूरनमल का वंश वहीं समाप्त हो जाए । पूरनमल और उसके परिवार के साथ इस तरह का कठोर तथा वर्बरतापूर्ण व्यवहार शेरशाह के चरित्र पर एक कलंक है । डॉक्टर ईश्वरी प्रसाद ( Dr . Ishwari Prasad ) ने लिखा है कि ” शेरशाह ने अपने शत्रु से जिसने अपनी दुर्दशा के समय उस पर विश्वास किया हो , इस प्रकार का मनुष्यताहीन अत्याचारपूर्ण व्यवहार किया । “

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *