Wednesday , 24 July 2019
Home / सामान्य ज्ञान / इतिहास / दीन-ए-इलाही के मुख्य सिद्धांत

दीन-ए-इलाही के मुख्य सिद्धांत

दीन-ए-इलाही ( Chief Principles of Din – i – Ilahi )

अकबर द्वारा प्रचलित नए धर्म दीन-ए-इलाही के मुख्य सिद्धान्त निम्नलिखित थे :

1. परमात्मा एक है और सभी धर्मों के लोग उसकी दृष्टि में समान है ।

2. इस धरती पर अकबर उसी परमात्मा का प्रतिनिधि है ।

3. दीन-ए-इलाही के सदस्यों को आवश्यकता पड़ने पर अपनी सारी सम्पत्ति अकबर के सुपुर्द करने के लिए तैयार रहना चाहिए ।

अकबर की धार्मिक नीति के प्रभाव

4. इस धर्म के मानने वालों को एक दूसरे से मिलते समय ‘ अल्ला – हु – अकबर कहना पड़ता था और दूसरे को आगे से ‘ जल्ला – जलाल – हू ‘ कहना होता था ।

5. सभी दीने – इलाही के मानने वाले लोक – कल्याण की भावना से काम करें और उनका नैतिक स्तर ऊंचा होना चाहिए ।

6. दीने – इलाही के सब मानने वालों को अकबर के सामने सिर झुकाना पड़ता था ।

7. प्रत्येक सदस्य को मांस भक्षण निषिद्ध था ।

8. प्रत्येक सदस्य को बूचड़ों , शिकारियों , कछेरों ( अर्थात् हिंसक लोगों ) के साथ भोजन करने की मनाही थी ।

9. प्रत्येक सदस्य को अपने जन्म – दिन पर भोज देना पड़ता था ।

10. प्रत्येक सदस्य को दूसरे धर्म के प्रति सहिष्णु होना पड़ता था ।

11. दीने – इलाही के अनुयायो बाल – विवाह और वृद्ध – विवाह के विरुद्ध थे ।

12. इस धर्म के अनुयायी सूर्य पूजा के पक्ष में थे ।

13. दीने – इलाही के सदस्य अन्धविश्वासी थे । ।

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *