Thursday , 23 May 2019
Breaking News
Home / सामान्य ज्ञान / इतिहास / कालिंजर की विजय

कालिंजर की विजय

यकालिंजर की विजय , 1545 ई० ( Conquest of Kalinjar )

अभी तक कालिंजर शेरशाह के अधीन नहीं था । शेरशाह चाहता था कि कालिंजर भी उसके अधीन हो जाए ; इसलिए 1545 ई० में कालिंजर के किले को घेर लिया । यह घेरा छः मास तक जारी रहा , परन्तु राजपूतों ने पराजय न मानी । अन्त में शेरशाह ने मिट्टी का एक बुर्ज बनाकर उस के द्वारा किले की दीवारों पर अपनी सेना ले जाने का प्रयत्न किया , परन्तु जब वह बुर्ज पर चढ़ा तो अचानक एक गोला फट गया , जिससे शेरशाह बुरी तरह घायल हो गया उसे उठा कर उसके तम्बू में लाया गया । शेरशाह ने फिर भी साहस नहीं छोड़ा और घेरा जारी रखने का आदेश दिया और सायंकाल तक उसकी सेनाओं का किले पर अधिकार हो गया ।

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *