Friday , 24 May 2019
Breaking News
Home / सामान्य ज्ञान / इतिहास / अकबर की राजपूत नीति के प्रभाव

अकबर की राजपूत नीति के प्रभाव

अकबर की राजपूत नीति के प्रभाव ( Effects of Akbar’s Rajput Policy ) – अकबर की राजपूत नीति के बहुत अच्छे प्रभाव हुए जिनका विवरण इस प्रकार है :-

( i ) हिन्दू – मुसलमानों में परस्पर विरोध समाप्त हो गए और दोनों जातियों में प्रेम सम्बन्ध हो गए ।
( ii ) भारत मुगलों का मुकाबला करने वाली राजपूत जाति ही थी , वहीं राजपूत मुगल राज्य के शुभचन्तिक बन गए ।
( iii ) इस तरह अकबर अपने शत्रुओं को दबाकर देश में शान्ति स्थापित करने में सफल हो गया ।

अकबर की धार्मिक नीति के प्रभाव

( iv ) राजपूतों जैसी बहादुर जाति के सहयोग से अकबर ने कई भयंकर युद्धों में विजय प्राप्त की । एलफिन्सटन ( Elphinstone ) ने लिखा है कि “ राजपूत मुगल साम्राज्य की शक्ति का साधन बने , उसके विकास के लिए बाधक नहीं । ”
( v ) हिन्दुओं तथा राजपूतों की ओर से निश्चिन्त होकर अकबर ने विद्रोहियों को सरलता से कुचल दिया ।
( vi ) देश में शान्ति स्थापित हो गई , जिससे व्यापार को बहुत प्रोत्साहन मिला । इससे देश की आर्थिक स्थिति भी सुधर गई और देश समृद्ध हो गया ।

अकबर का जीवन परिचय

( vii ) सफल राजपूत नीति से मुगल राज्य की नींव और सुदृढ़ हो गई ।
( viii ) इसी प्रकार राजपूतों की सहायता के साथ अकबर ने अपने प्रबन्धकों में बहुत बढ़ोत्तरी की क्योंकि उस समय – समय के साथ पिछड़ मुसलमानों में हिन्दू कहीं पढ़े लिखे और वफ़ादार थे ।

Check Also

ऑक्सीकरण और अपचयन

ऑक्सीकरण और अपचयन ( Oxidation and Reduction ) ऑक्सीकरण एवं अपचयन के बारे में प्रारम्भिक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *