Wednesday , 24 July 2019
Home / सामान्य ज्ञान / इतिहास / आधुनिक भारत / मुस्लिम लीग का आरम्भ

मुस्लिम लीग का आरम्भ

मुस्लिम लीग का आरम्भ ( The Rise of Muslim League )

अंग्रेज जानते थे कि मुसलमानों को हिन्दुओं से अलग किया जा सकता है , इसलिए उन्होंने फूट डालो तथा राज्य करो ( Divide and Rule ) की नीति का यहां प्रयोग किया । कांग्रेस ने बहुत से मुसलमानों को अपना प्रधान भी चुना , किन्तु अंग्रेजों के उकसाने से वे कांग्रेस को हिन्दुओं का ही संगठन समझते रहे । अंग्रेजों ने वैसे ही मुसलमानों को बहुत सुविधाएं भी दे दीं , इसलिए मुस्लिम नेता सर सय्यद अहमद तथा नवाब अब्दुल लतीफ ने मुसलमानों को कांग्रेस के प्रभाव से दूर रखने का प्रयत्न किया ।

जानिये भारत विभाजन के बारे में

इसका परिणाम यह निकला कि 1906 ई० में मुस्लिम लीग ( Muslim League ) की नींव रखी गई । यह संस्था कांग्रेस से अलग होकर मुसलमानों को अधिक से अधिक अधिकार दिलाने के लिए लड़ती रही । 1916 ई० में इसका कांग्रेस के साथ समझौता भी हो गया था जिसे लखनऊ पैक्ट ( Lucknow Pact ) कहते है क्योंकि दोनों संस्थाओं के उद्देश्य बिल्कुल अलग – अलग थे , इसलिए इनका समझौता बहुत देर न चला सका ।

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *