Wednesday , 24 July 2019
Home / सामान्य ज्ञान / इतिहास / आधुनिक भारत / भारत छोड़ो आन्दोलन

भारत छोड़ो आन्दोलन

भारत छोड़ो आन्दोलन ( Quit India Movement of 1942 )

कांग्रेस मन्त्रिमण्डलों के त्याग – पत्र पर मुस्लिम लीग के नेता मुहम्मद अली जिन्नाह बहुत प्रसन्न हुए । उसने 22 नवम्बर , 1939 ई० को मुक्ति का दिन ( Deliverance Day ) मनाया । 1940 ई० से मुस्लिम लीग के अधिवेशन में पाकिस्तान की मांग रखी । इस प्रकार 1939 ई० में भारत में राजनीतिक रूप से बहुत आन्दोलन होते रहे । सरकार अपनी शक्ति जर्मनी तथा जापान की लड़ाई में लगा रही थी । दूसरी ओर भारतीय कांग्रेस अपने आन्दोलनों की शक्ति बढ़ाकर सरकार से अपनी माँग मनवाना चाहती थी ।

सविनय अवज्ञा आन्दोलन की जानकारी

भारत सरकार भी बहुत तंग आ चुकी थी । उसने कांग्रेस के साथ समझौते के लिए मार्च 1942 ई० में सर स्टेफोर्ड क्रिप्स ( Sir Stafford Crips ) के अधीन एक राजनीतिक मिशन भारत भेजा , पर इस मिशन को कोई सफलता न मिली । इससे सरकार तथा कांग्रेस दोनों को बड़ी निराशा हुई । दूसरी ओर जापान भारत पर इसलिए आंखें गड़ाये बैठा था कि भारत अंग्रेजो के अधीन था , इसलिए कांग्रेस को यह डर उत्पन्न हो गया कि कहीं जापान भी भारत पर कब्जा न कर ले । यह तो एक विदेशी राज्य से मुक्ति पाकर दूसरे के अधीन होने वाली बात थी , इसलिए बम्बई में होने वाली सभा में गांधी जी ने सुझाव दिया कि अंग्रेजों को जल्दी से जल्दी भारत से निकाल देना चाहिए ।

रौलेट एक्ट की जानकारी

जापान की आँखें केवल अंग्रजों के कारण ही भारत पर लगी हुई थीं ; इसलिए अगस्त 1942 ई० में भारत छोड़ो ( Quit India ) आन्दोलन आरम्भ किया गया । दूसरे ही दिन भारत के प्रसिद्ध कांग्रेसी नेताओं को पकड़ लिया गया । लोगों पर बहुत अत्याचार किए गए । कइयों को गोलियों से उड़ा दिया गया , किन्तु लोगों के हृदय में भी देश प्यार का तूफान उमड़ आया था , जिससे बदले की भावना भड़की । जनता ने 250 रेलवे स्टेशन जला कर राख कर दिए । लगभग 500 डाक – घर नष्ट कर दिए गए । 150 पुलिस चोकियो पर हमले किये गए । इस प्रकार की गड़बड़ी तथा हिंसा के कामों में भारत सरकार को भी पता लग गया कि भारतीयों को अब देर तक अधीन रखना कठिन होगा ।

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *