Tuesday , 16 July 2019
Home / सामान्य ज्ञान / कम्पनी के समय हरियाणा में सामाजिक व आर्थिक स्थिति

कम्पनी के समय हरियाणा में सामाजिक व आर्थिक स्थिति

कम्पनी के समय हरियाणा में सामाजिक व आर्थिक स्थिति

ईस्ट इण्डिया कम्पनी की शासन व्यवस्था शोषण व आर्थिक लाभ का अवधारणा पर आधारित थी । कम्पनी को जनकल्याण या जनता के हित से कोई सरोकार नहीं था । इस कारण किसानों , सैनिकों तथा अपदस्थ स्थानीय शासकों व सामन्तों में असन्तोष व कम्पनी के प्रति रोष फैलने लगा ।

हरियाणा की कृषि के बारे में

इस रोष का प्रथम प्रस्फुटन 1857 की क्रान्ति के रूप में हुआ । बंगाल की बैरकपुर छावनी में मंगल पाण्डे द्वारा 1857 में चर्बी वाले कारतूसों का विरोध करते हुए अपने अंग्रेज अधिकारियों की हत्या करके क्रान्ति का सूत्रपात किया गया था । शीघ्र ही यह क्रान्ति देश के कई भागों में फैल गई । 10 मई , 1857 को मेरठ छावनी में बड़ा विद्रोह हुआ और सैनिकों ने शस्त्रागार लूट लिया तथा अंग्रेजों को मारते हुए दिल्ली की ओर कूच किया ।

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *