Tuesday , 16 July 2019
Home / सामान्य ज्ञान / भूगोल / क्या हैं आकाशगंगा ?

क्या हैं आकाशगंगा ?

क्या हैं आकाशगंगा

आकाशगंगाएं एक सुपर विशाल ब्लैक होल के चारों ओर चक्कर लगाते सितारों, धूल और गैस का संग्रह हैं। आकाशगंगा की उत्पत्ति गैसों के संघनन से हुई है और उसमे हाइड्रोजन की प्रधानता थी. मन्दाकिनी में तारों का विशाल पुंज होता है. वह मन्दाकिनी जिसमें हमारा सूर्य, पृथ्वी ताठा ग्रह एवं उपग्रह आदि हैं, उसे आकाशगंगा कहते हैं. आकाशगंगा भी मन्दाकिनी का ही एक भाग है. आकाशगंगा के केंद्र से सूर्य की दूरी 50 हजार प्रकाश वर्ष मानी जाती है. सूर्य आकाशगंगा की परिक्रमा 25 करोड़ वर्ष में पूरा करता है.

माना जाता है कि अभी तक ज्ञात ब्रह्मांड में 200 मिलियन से भी अधिक आकाशगंगाएं हैं। कोई आकाशगंगा सितारों की संख्या और इनके छोटे बड़े होने की स्थिति में बड़ी या छोटी भी हो सकती है। एक बौनी आकाशगंगा जैसी छोटी आकाशगंगा में भी लाखों सितारे हो सकते हैं, जबकि किसी दूसरे छोर पर, सैकड़ों ट्रिलियन सितारों के साथ विशाल आकाशगंगाएं विद्यमान हैं।

हरियाणा के पर्यटन स्थल

औसत आकाशगंगा का व्यास 326,000 प्रकाश वर्ष तक पहुंच सकता है, जिसका अर्थ है कि औसत आकाशगंगा को पार करने में 326,000 साल लगेंगे। 1929 में, एडविन हबल ने खगोलविदों द्वारा देखी जा रही विभिन्न प्रकार की आकाशगंगाओं को व्यवस्थित और वर्गीकृत करना शुरू किया। हबल वर्गीकरण प्रणाली आकाशगंगाओं को तीन मुख्य श्रेणियों में वर्गीकृत करती है: सर्पिल, अंडाकार, और अनियमित।

हमारा सूर्य भी आकाशगंगा का ही एक तारा है. सौरमंडल, अनेक तारों से निर्मित मन्दाकिनी का एक बहुत छोटा हिस्सा है. ब्रह्माण्ड में अनंत मंदाकिनियाँ अनियमित रूप से बिखरी हुई हैं. इनमे गामा किरणें, अवरक्त किरणें, रेडियो तरंगें, पराबैंगनी प्रकाश, दृश्य प्रकाश तथा x- किरणें आदि शामिल हैं.
हमारी पृथ्वी, एरावत पथ नामक आकाशगंगा का एक भाग है. एरावत पथ एवं एनद्रोमेडा दो वृहत आकाशगंगायें हैं.

 

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *