Wednesday , 24 July 2019
Home / सामान्य ज्ञान / अर्थव्यवस्था / अर्थव्यवस्था के क्षेत्र

अर्थव्यवस्था के क्षेत्र

अर्थव्यवस्था के क्षेत्र

सामान्यतः सम्पूर्ण भारतीय अर्थव्यवस्था की आर्थिक गतिविधियों को लेखांकित करने के लिए तीन क्षेत्र में विभाजित किया जाता है ।

प्राथमिक क्षेत्र ( Primary Sector )
अर्थव्यवस्था का यह क्षेत्र प्रत्यक्ष रूप से पर्यावरण पर निर्भर होती है । इन गतिविधियों का संबंध भूमि , जल , वनस्पति और खनिज जैसे प्राकृतिक संसाधनों से है । कृषि , पशुपालन , मत्स्य पालन , खनन और उनसे संबद्ध गतिविधियों को इसके अंतर्गत रखा जाता है । इसमें संलग्न श्रम की प्रकृति को रेड कॉलर जॉब के जरिए संकेतित किया जाता है ।

भारतीय अर्थव्यवस्था

द्वितीयक क्षेत्र ( Secondary Sector )
इसके अन्तर्गत मुख्यत : अर्थव्यवस्था की विनिर्मित वस्तुओं के उत्पादन का लेखांकन किया जात है । जैसे

  • निर्माण जहाँ किसी स्थायी परिसम्पत्ति ( Permanent Assest ) का निर्माण किया जाए ; जैसे – भवन ।
  • विनिर्माण जहाँ किसी वस्तु का उत्पादन ( Production ) किया जाए ; जैसे — कपड़ा , ब्रेड आदि ।
  • विद्युत , गैस एवं जलापूर्ति इत्यादि से सम्बन्धित कार्य ।

तृतीयक क्षेत्र ( Tertiary Sector )
इस क्षेत्रक में विभिन्न प्रकार की सेवाओं का उत्पादन किया जाता है ; जैसे बीमा , बैकिंग , चिकित्सा , शिक्षा , पर्यटन आदि । इस क्षेत्र को सेवा क्षेत्र के रूप में भी जाना जाता है ।

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *