Thursday , 23 May 2019
Breaking News
Home / सामान्य ज्ञान / इतिहास / भारतीय कला एवं भारतीय संस्कृति

भारतीय कला एवं भारतीय संस्कृति

भारतीय कला

कला , मानव मन की भावनाओं , संवेदनाओं या विचारों को अभिव्यक्त करने का एक माध्यम है । कला के अन्तर्गत मानव भावनाओं या विचारों को व्यवस्थित रूप में अभिव्यक्त किया जाता है , क्योकि अव्यवस्थित भावाभिव्यक्ति कभी भी कला के रूप में प्रतिष्ठित नही हो सकती है और न ही किसी दर्शक को प्रभावित कर सकती है ।

वास्तुकला , गीत – संगीत , नृत्य , काव्य , चित्रांकन आदि को कला के रूप में स्वीकार किया जाता है । कला , दर्शक की भावनाओं एवं विचारों को उत्तेजित या प्रेरित करने का कार्य करती है । समग्र रूप से कला उसे कहा जा सकता है , जो सौन्दर्य को अभिव्यक्त करती है तथा मानव मन को सुखद अनुभूति एवं सन्तुष्टि प्रदान करती है । ”

कला के रूप

कला को दो भागों में विभक्त किया जाता है — उपयोगी कला या शिल्प कला एवं ललित कला ।

अकाल नीति

उपयोगी कला या शिल्प कला

कला के इस रूप के अन्तर्गत वे कलाएँ शामिल की जाती हैं , जो हमारी दैनिक आवश्यकताओं की पूर्ति से सम्बन्धित हैं । खान – पान , वस्त्राभूषण , निवास – आवास हस्तशिल्प को इसके अन्तर्गत शामिल किया जाता है ।

ललित कला

कला का वह रूप जिससे सौन्दर्य की अनुभूति , आनन्द की प्राप्ति तथा मानव चेतना का विकास होता हो , ललित कला कहलाती है । यह किसी भी संस्कृति की समृद्धि के स्तर का परिचय प्रदान करती है । ललित कलाओं के पाँच रूप स्वीकार किए गए हैं ।

  1. वास्तुकला या स्थापत्य कला ( Architecture ) इसके अन्तर्गत किसी इमारत , भवन , किले , धार्मिक स्थल , पुल , बाँध आदि के निर्माण की कला को शामिल किया जाता है ।
  2. चित्रकला ( Painting ) किसी मानव , पशु , पेड़ – पौधे , प्राकृतिक दृश्य आदि के चित्रांकन से सम्बन्धित कला चित्रकला ‘ कहलाती है ।
  3. मूर्तिकला ( Sculpture ) इसके अन्तर्गत किसी वस्तु का रूप , रंग एवं आकार निर्मित किया जाता है ।
  4. संगीत कला ( Music ) किसी व्यक्ति के द्वारा गायन अथवा किसी वाद्य यन्त्र के वादन के द्वारा उत्पन्न | कर्णप्रिय ध्वनि , संगीत के अन्तर्गत सम्मिलित की जाती है ।
  5. काव्य कला ( Poetry ) यह किसी भी भाषा में भावों अथवा विचारों को शब्दों में अभिव्यक्त करने की कलाहै ।

भारतीय कला

भारतीय कला भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग है , यह भारतीय संस्कृति की वाहिका भी है । मानवीय सम्बन्धों और स्थितियों की विविध भावलीलाओं तथा उसके माध्यम से चेतना को उजागर करना भारतीय कला का विशिष्ट गुण है ।

भारतीय कला की प्रमुख विशेषता

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *