Tuesday , 21 May 2019
Breaking News
Home / सामान्य ज्ञान / राज्य व्यवस्था / नागरिकता संशोधन अधिनियम , 1986

नागरिकता संशोधन अधिनियम , 1986

नागरिकता संशोधन अधिनियम , 1986

बांग्लादेश , श्रीलंका तथा कुछ अफ्रीकी देशों से बड़ी संख्या में लोगों के गैर – कानूनी तरीके से भारत में आ जाने के कारण उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए वर्ष 1986 में भारतीय नागरिकता संशोधन अधिनियम , 1955 में संशोधन किया गया ।

ये संशोधन निम्नलिखित है-
1. अब भारत में जनमे केवल उस व्यक्ति को ही नागरिकता प्रदान की जायेगी , जिसके माता – पिता में से एक भारत का नागरिक हो ।
2. जो व्यक्ति पंजीकरण के माध्यम से भारतीय नागरिकता प्राप्त करना चाहते हैं , उन्हें अब भारत में कम – से – कम पाँच वर्षों तक निवास करना होगा । पहले यह अवधि छह माह थी ।

देशी राज्यों का विलय

3. कोई भी व्यक्ति अब देशीयकरण द्वारा नागरिकता तभी प्राप्त कर सकता है , जब वह कम – से – कम 10 वर्ष तक भारत में निवास कर चुका हो , इससे पहले यह अवधि 5 वर्ष निर्धारित थी ।
4. भारतीय पुरुष से विवाह करने वाली विदेशी महिला को नागरिकता प्राप्त करने हेतु अधिकार प्रदान किया गया ।

Check Also

जल के गुण

जल एक रसायनिक पदार्थ है जिसका रसायनिक सूत्र H2O है: जल के एक अणु में दो हाइड्रोजन के परमाणु सहसंयोजक बंध के द्वारा एक ऑक्सीजन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *