Friday , 24 May 2019
Breaking News

हाइड्रोजन गैस के मुख्य उपयोग

हाइड्रोजन गैस के मुख्य उपयोग रासायनिक उद्योगों में प्रौर तकनीकी में हाइड्रोजन बड़ी उपयोगी गैस है । इस गैस के उपयोग हैं :- 1 . हाइड्रोक्लोरिक अम्ल , अमोनिया और मेथिल अल्कोहल के प्रौद्योगिक निर्माण में । 2 . कोल और पेट्रोलियम फैक्शन्स के हाइड्रोजनीकरण की विधि द्वारा संश्लेषित पेट्रोल के निर्माण में । 3 . वनस्पति तेलों के हाइड्रोजन …

Read More »

वायु के मुख्य अवयव

वायु के मुख्य अवयव ऑक्सीजन और नाइट्रोजन वायु के मुख्य अवयव हैं । इन गैसों के अलावा वायु में पानी की वाष्प और कार्बन – डाइआक्साइड भी थोड़ी मात्रा में अवश्य रहते हैं । आयतन के अनुसार ऑक्सीजन और नाइट्रोजन मिलाकर वायु का लगभग 99 % भाग है । कार्बन – डाइआक्साइड लगभग 0 . 03 % भाग है । …

Read More »

वायु में कार्बन डाइआक्साइड

वायु में कार्बनडाइआक्साइड ज्ञात करने की विधि- प्रयोग- एक बीकर में थोड़ा ताज़ा चूने का पानी Ca(OH)2 लो । इस बीकर को वायु में कुछ दिनों के लिए खुला छोड़ दो । आप देखेंगे कि बीकर की तली में खड़िया की सफ़ेद पर्त जम गई है । वायु में उपस्थित कार्बन – डाइ – आक्साइड चूने के पानी से क्रिया …

Read More »

रासायनिक समीकरण

रासायनिक समीकरण ( Chemical Equations ) संकेतों और सूत्रों की सहायता से रासायनिक प्रतिक्रिया को संक्षिप्त रूप से प्रकट करने को रासायनिक समीकरण कहते हैं । दूसरे शब्दों में यह किसी रासायनिक क्रिया में भाग लेने वाले भिन्न – भिन्न पदार्थों में होने वाले परिवर्तनों का सांकेतिक वर्णन है । इससे यह पता चल जाता है कि रासायनिक क्रिया में …

Read More »

आवर्त सारिणी की उपयोगिता

आवर्त सारिणी की उपयोगिता आवर्त सारिणी की उपयोगिता निम्नलिखित प्रकार से है – 1 . आवर्त सारिणी तत्वों के वर्गीकरण की एक सरल योजना है । इसकी सहायता से रसायन का अध्ययन 9 वर्गों में व्यवस्थित हो गया है जिससे कि इसका अध्ययन बहुत सरल हो गया है । 2 . सारिणी बनाते समय मेंडलीफ ने कुछ स्थान खाली छोड़ …

Read More »

मेंडलीफ आवर्त सारिणी में त्रुटियाँ

मेंडलीफ आवर्त सारिणी में त्रुटियाँ मेंडलीफ आवर्त सारिणी में त्रुटियाँ निम्नलिखित थी – 1 . हाईड्रोजन के गुण – धर्म क्षार – धातुओं ( Li , Na , K ) आदि और हैलोजन दोनों के गुण – धर्मों से मिलते हैं । अतः उसे क्षार – धातुओं IA के साथ तथा हैलोजन के साथ VII वर्ग में रखा जा सकता …

Read More »

परमाणु क्रमांक

परमाणु क्रमांक ( Atomic Number ) किसी परमाणु के नाभिक की धनात्मक आवेश संख्या को उसका परमाणु क्रमांक कहते हैं । परमाणु क्रमांक N = प्रोटानों की संख्या = इलेक्ट्रॉनों की संख्या ( अन्दर स्थित ) ( बाहर स्थित ) उदाहरण हाइड्रोजन का परमाणु क्र. एक है इसलिए इसके नाभिक के अन्दर एक प्रोटॉन होना चाहिए । इसी प्रकार सोडियम …

Read More »