Tuesday , 16 July 2019
Home / सामान्य ज्ञान / विज्ञान / भौतिक विज्ञान

भौतिक विज्ञान

परमाणु भौतिकी

परमाणु भौतिकी नाभिकीय भौतिकी में परमाणवीय नाभिक का अध्ययन किया जाता है । परमाणु के नाभिक का व्यास 10 – 15 मीटर , 10 – 14 मीटर की कोटि का होता है , जबकि परमाणु का व्यास 10 – 10 मीटर होता है । नाभिक में प्रोटॉन तथा न्यूट्रॉन कण होते हैं । नाभिक में उपस्थित प्रोटॉनों की संख्या को …

Read More »

स्थिर विद्युत

स्थिर विद्युत ( Static Electricity ) पदार्थों को परस्पर रगड़ने से उस पर जो आवेश की मात्रा संचित रहती है , उसे स्थिर विद्युत कहते हैं । स्थिर विद्युत में आवेश स्थिर रहता है । चालक ( Conductor ) जिन पदार्थों से होकर विद्युत् आवेश सरलता से प्रवाहित होता है , उन्हें चालक कहते हैं । जैसे – चाँदी , …

Read More »

विद्युत धारा

विद्युत धारा किसी चालक में विद्युत् आवेश के प्रवाह की दर को विद्युत् धारा कहते हैं । विद्युत् धारा की दिशा धन आवेश की गति की दिशा की ओर मानी जाती है । इसका S . I . मात्रक एम्पियर है । यह एक अदिश राशि है । अमीटर ( Ammeter ) इसकी सहायता से धारा का मान एम्पियर में …

Read More »

प्रकाश

वास्तव में प्रकाश एक प्रकार की उर्जा है, जो विधुत चुम्बकीय तरंगों के रूप में संचारित होती है. ऐसा विकिरण या ऊर्जा जो हमारी आँखों को संवेदित करता है , प्रकाश कहलाता है । प्रकाश का चिकने पृष्ठ से टकराकर वापस लौटने की घटना को प्रकाश का परावर्तन कहते हैं । प्रकाश की चाल विभिन्न माध्यमों में प्रकाश की चाल भिन्न …

Read More »

ऊष्मा इंजन

ऊष्मा इंजन

वह युक्ति जिसके द्वारा ऊष्मा का यान्त्रिक कार्य में रूपान्तरण किया जा सकता है , ऊष्मा – इंजन ( Heat Engine ) कहलाती है । इसके मुख्य रूप से तीन भाग होते हैं ऊष्मा का स्रोत ( Source of Heat ) इंजन में किसी भी प्रकार के ईंधन को जलाकर ऊष्मा प्राप्त की जा सकती है ; जैसे — मोटर …

Read More »

विशिष्ट ऊष्मा

विशिष्ट ऊष्मा

विशिष्ट ऊष्मा ( Specific Heat )   किसी पदार्थ की विशिष्ट ऊष्मा , ऊष्मा की वह मात्रा है , जो उस पदार्थ के एकांक द्रव्यमान में एकांक ताप – वृद्धि उत्पन्न करती है । इसे प्रायः C द्वारा व्यक्त किया जाता है । विशिष्ट ऊष्मा का S . I . मात्रक जूल किलोग्राम – 1 केल्विन – 1 ( J …

Read More »

ऊष्मा ( Heat )

Heat

ऊष्मा ऊष्मा ऊर्जा का एक रूप है , जो दो वस्तुओं के बीच तापान्तर के कारण उच्चतर ताप की वस्तु से निम्नतर ताप की वस्तु की ओर स्थानान्तरित होती है । ऊर्जा का यह स्थानान्तरण जब तक दोनों वस्तुओं के ताप समान न हो जाए । कार्य तथा ऊष्मा दोनों ही ऊर्जा के रूप हैं । ऊष्मा के मात्रक अन्तर्राष्ट्रीय SI …

Read More »