Monday , 27 May 2019
Breaking News
Home / सामान्य ज्ञान (page 4)

सामान्य ज्ञान

भारतीय संविधान सभा

भारतीय संविधान सभा

भारतीय संविधान सभा भारतीय संविधान का निर्माण एक संविधान सभा द्वारा किया गया , जिसकी स्थापना कैबिनेट मिशन योजना , 1946 के अन्तर्गत की गई । संविधान सभा के सदस्यों की कुल संख्या 389 निश्चित की गयी थी , जिनमें 292 ब्रिटिश प्रान्तों के प्रतिनिधि , 4 चीफ कमिश्नर क्षेत्रों के प्रतिनिधि एवं 93 देशी रियासतों के प्रतिनिधि थे । …

Read More »

देशी राज्यों का विलय

देशी राज्यों का विलय स्वतन्त्रता प्राप्ति के पूर्व भारतीय राज्यक्षेत्र दो वर्गों में विभक्त था — ब्रिटिश भारत एवं देशी रियासतें । ब्रिटिश भारत में 9 प्रान्त थे , जबकि देशी रियासतों ( Princely States ) की संख्या 600 थी , जिनमें से 565 रियासतों को छोड़कर शेष 35 पाकिस्तान में शामिल हो गईं थीं । देशी राज्यों का विलय …

Read More »

नागरिकता संशोधन अधिनियम , 1986

नागरिकता संशोधन अधिनियम , 1986 बांग्लादेश , श्रीलंका तथा कुछ अफ्रीकी देशों से बड़ी संख्या में लोगों के गैर – कानूनी तरीके से भारत में आ जाने के कारण उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए वर्ष 1986 में भारतीय नागरिकता संशोधन अधिनियम , 1955 में संशोधन किया गया । ये संशोधन निम्नलिखित है- 1. अब भारत में जनमे केवल उस …

Read More »

दीन-ए-इलाही के मुख्य सिद्धांत

दीन-ए-इलाही ( Chief Principles of Din – i – Ilahi ) अकबर द्वारा प्रचलित नए धर्म दीन-ए-इलाही के मुख्य सिद्धान्त निम्नलिखित थे : 1. परमात्मा एक है और सभी धर्मों के लोग उसकी दृष्टि में समान है । 2. इस धरती पर अकबर उसी परमात्मा का प्रतिनिधि है । 3. दीन-ए-इलाही के सदस्यों को आवश्यकता पड़ने पर अपनी सारी सम्पत्ति अकबर …

Read More »

अकबर की धार्मिक नीति के प्रभाव

अकबर की धार्मिक नीति के प्रभाव अकबर एक महान राजा था । वह ज्यादा पढ़ा लिखा न होने पर भी सूझ बुझ से काम लेता था । अकबर की धार्मिक नीति का लोगों पर बहुत प्रभाव पड़ा । अकबर की धार्मिक नीति के प्रभाव निम्नलिखित है – 1.हिन्दुओं तथा राजपूतों के सहयोग से अकबर ने अपने साम्राज्य में शान्ति का वातावरण स्थापित किया …

Read More »

ज्वालामुखी

ज्वालामुखी

ज्वालामुखी ज्वालामुखी ( Volcano ) भू – पटल पर वह प्राकृतिक छद या दरार है , जिससे होकर पृथ्वी का पिघला पदार्थ लावा , राख , भाप तथा अन्य गैसें बाहर निकलती हैं । बाहर हवा में उड़ा हुआ लावा शीघ्र ही ठंडा होकर छोटे ठोस टुकड़ों में बदल जाता है , जिसे सिंडर कहते हैं । विस्फोट में निकलने …

Read More »

भूकम्प

भूकम्प भूकम्प ( Earthquake ) का तात्पर्य भू – पटल के नीचे या ऊपर चट्टानों के बीच कम्पन या गुरुत्वाकर्षण की समस्थिति ( Equilibrium ) में क्षणिक अव्यवस्था होने पर उत्पन्न हलचल से है । इस प्रकार भूकम्प का सामान्य अर्थ पृथ्वी के कम्पन से है । यह कम्पन सामान्यतः भू – गर्भ में ऊर्जा की विमुक्ति ( Release ) …

Read More »