Thursday , 18 July 2019

मौर्य वंश

मौर्य काल से पहले का इतिहास अन्धकार की गहरी परतों में छुपा हुआ है । इसका कारण यह है कि इसके विषय में जानकारी प्राप्त करने के लिए इतिहासकारों को केवल धार्मिक ग्रन्थों पर भी निर्भर रहना पड़ता है क्योंकि ऐतिहासिक स्रोतों का अत्यन्त अभाव है । हम इस प्रकार ही कह सकते हैं कि इतिहास कारों को अन्धकार में ही हाथ – पैर मार कर रास्ता टटोलना पड़ता है , परन्तु मौर्य काल के आगमन से इतिहास अन्धकार से प्रकाश में आ जाता है । दूसरे शब्दों में , भारतवर्ष के इतिहास में मौर्य वंश ही प्रथम ऐतिहासिक वंश था जिसके विषय में पूर्ण ऐतिहासिक जानकारी प्राप्त होती है क्योंकि इसकी जानकारी प्राप्त करने के लिए सौभाग्यवश हमारे पास पर्याप्त ऐतिहासिक स्रोत है । इसी लिए तो सुप्रसिद्ध इतिहासकार वी० ए० स्मिथ ( V . A . Smith ) कहते हैं , “ मौर्य वंश के साथ इतिहासकार अन्धेरे से उजाले में आ जाते हैं । ”
भारत में मौर्य काल का इतिहास मौर्य साम्राज्य के उत्थान , उन्नति व पतन की एक रोचक कहानी है । हम इन पृष्ठों में इसी रोचक कहानी के नायक चन्द्र गुप्त मौर्य तथा अशोक महान् के जीवन तथा उनकी उपलब्धियों की एक झलक पाठ्कों को प्रस्तुत की जायेगी ।

कलिंग युद्ध

वास्तव में अशोक के पिता तथा दादा ही अपने राज्य की सीमाओं का पर्याप्त विस्तार कर गये थे , इसलिए अशोक को अधिक युद्ध नहीं करने पड़े । चन्द्रगुप्त तथा बिन्दुसार ने लगभग सारे उत्तर भारत पर अपना अधिकार कर रखा था । शिलालेख XIII में बताया गया है कि अशोक ने केवल कलिंग को विजय किया था । यह …

Read More »

अशोक का प्रारम्भिक जीवन

अशोक का प्रारम्भिक जीवन इतिहास ऐसे अनेकों राजाओं के विवरण से भरा पड़ा है जिन्होंने साम्राज्य विस्तार की लालसा में अंधे हो खून की होली खेली और अपनी विजयों पर ठहाके पर ठहाके लगाए । उनका पत्थर दिल युद्ध – भूमि के घिनौने दृश्यों , मासूम अनाथ बच्चों की चीखों , विधवाओं के विलाप तथा बेसहारा माताओं तथा बहिनों के …

Read More »

चन्द्रगुप्त मौर्य का चरित्र और उसके कार्य

चन्द्रगुप्त मौर्य का चरित्र ( Character of Chandra Gupta Maurya ) चन्द्रगुप्त की निस्सन्देह भारत के महान् राजनैतिक प्रशासकों में गणना होती है । उसे प्रथम भारतीय राष्ट्रीय सम्राट भी कह सकते हैं , जिससे इतिहास में उसकी महत्ता और भी बढ़ जाती है । उससे पूर्व भारत कई छोटी – छोटी रियासतों में बंटा हुआ था , जिन पर विदेशी …

Read More »

चन्द्रगुप्त की विजयें

चन्द्रगुप्त की विजयें पंजाब की विजय ( Conquest of Punjab ) चन्द्रगुप्त की सिकन्दर , से भेंट हुई , परन्तु उससे चन्द्रगुप्त को कुछ न मिला फिर विष्णुगुप्त कौटिल्य ( चाणक्य ) के साथ चन्द्रगुप्त ने एक योजना बनाई । चाणक्य भी नन्द वंश का नाश करना चाहता था और चन्द्रगुप्त तो उसका शत्रु था ही । साथ ही सिकन्दर …

Read More »

मौर्य साम्राज्य की जानकारी के मुख्य स्त्रोत

मौर्य साम्राज्य की जानकारी के मुख्य स्त्रोत मौर्य वंश के पूर्व इतिहास की जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे समक्ष केवल धार्मिक ग्रंथ ही हैं तथा इन पर ही हमें निर्भर करना होगा , परन्तु मौर्य वंश के इतिहास के लिए हमारे समक्ष इन धार्मिक ग्रन्थों के अतिरिक्त अन्य ऐतिहासिक स्रोत भी हैं । इनमें ऐतिहासिक पुस्तके तथा शिलालेख अादि …

Read More »

कौटिल्य का अर्थशास्त्र

कौटिल्य का अर्थशास्त्र अर्थशास्त्र के लेखक चाणक्य हैं । यह पुस्तक मौर्य काल के इतिहास के लिए दूसरा स्रोत है । चाणक्य को विष्णु गुप्त भी कहा जाता है । कौटिल्य तो उसे उसकी पुस्तक ‘ अर्थशास्त्र ‘ के कारण कहा जाता है क्योंकि इस पुस्तक में राजाओं के लिए कुटिल नीति पर बहुत से उत्तम सिद्धान्त दिए गए हैं । …

Read More »

मेगस्थनीज की पुस्तक इंडिका

मेगस्थनीज की पुस्तक इंडिका मौर्य वंश के विषय में सर्वप्रथम हमें मेगस्थनीज की पुस्तक ‘ इंडिका ‘ से ज्ञान प्राप्त होता है । मेगस्थनीज सिकन्दर के उत्तराधिकारी सैल्यूकस निकेटोर ( Seleukus Necator ) की ओर से चन्द्रगुप्त के दरबार में एक राजदूत के रूप में आया था । यह माना जाता है कि वह चन्द्रगुप्त की राजधानी पाटलीपुत्र में कोई पांच …

Read More »