Thursday , 20 June 2019
Home / सामान्य ज्ञान / इतिहास / मध्य भारत (page 5)

मध्य भारत

मुहम्मद तुगलक़ का राज्य प्रबन्ध

राज्य का स्वरूप ( Nature of his State ) मुहम्मद तुगलक का राज्य मुस्लिम धार्मिक राज्य था । इसमें नागरिकता के पूर्ण अधिकार केवल मुसलमानों को ही प्राप्त थे । प्रायः मुसलमान सुलतानों का प्रमुख उद्देश्य इस ‘ काफिर भूमि ’ को ‘ इस्लाम भूमि ‘ बनाना ही था , परन्तु इब्न बतूता के अनुसार मुहम्मद तुगलक के राज्य – …

Read More »

मुहम्मद तुग़लक़ की विफलता के कारण

मुहम्मद बिन तुग़लक़ (1325-1351 ई.) यदि ध्यानपूर्वक देखा जाए तो हम इस परिणाम पर पहुंचते हैं कि मुहम्मद तुगलक की योजनाएं गलत अथवा जनता को लूटने वाली योजनाएं नहीं थीं । उनके पीछे जन – कल्याण की भावना निहित थी । मुहम्मद तुगलक वैसे एक विद्वान् तथा प्रभावशाली व्यक्ति था , परन्तु फिर भी वह एक राजा तथा शासक के रूप में सफल …

Read More »

मुहम्मद तुगलक की नीति के परिणाम

मुहम्मद तुगलक की नीति और विचित्र योजनाओं के परिणाम ( Results of Muhammad Tughlak’s Policy and Plans ) मुहम्मद तुगलक ने बहुत सी योजनाएं बनाई , परन्तु उनमें से एक भी पूर्ण न हुई । इस तरह उसकी नीति तथा योजनाओं के निम्नलिखित परिणाम निकले. मुहम्मद तुगलक की नीति के परिणाम :— धन की क्षति ( Loss of Money ) मुहम्मद …

Read More »

मुहम्मद तुगलक की कल्पित योजनाएं

गयासुद्दीन की मुत्यु के पश्चात् 1325 ई० में उसका पुत्र जूना खां सिंहासन पर बैठा । उसने मुहम्मद की उपाधि ग्रहण की । इतिहास में उसे मुहम्मद तुगलक के नाम से जाना जाता है । मुहम्मद तुगलक का इतिहास में विशेष स्थान है । वह बहुत विद्वान् , दानी , कवि तथा नई योजनाएं बनाने में सिद्धहस्त था । परन्तु उसके …

Read More »

अलाउद्दीन का चरित्र और उपलब्धियां

अलाउद्दीन का चरित्र और उपलब्धियां ( Character and Achievements of Ala-ud-din ) अलाऊद्दीन का साम्राज्य मुगल काल से पहले के सभी मुसलमान सुलतानों में सबसे बड़ा था । अलाऊद्दीन खिलजी में जन्मजात सेनापति तथा अच्छे प्रशासक के गुण विद्यमान थे जो मध्यकाल के इतिहास में एक असाधारण सुमेल है । इसमें तनिक भी सन्देह नहीं कि वह एक अत्याचारी तथा …

Read More »

अलाऊद्दीन खिलजी के प्रशासनिक सुधार

प्रबन्धक सुधार ( Administrative Reforms ) अलाऊद्दीन खिलजी ने देश में शान्ति बनाए रखने और विद्रोहों को रोकने के लिए अनेक प्रशासनिक सुधार किए । अलाऊद्दीन के शासन – काल में कई सरदारों ने विद्रोह किया था । इस सम्बन्ध में अलाऊद्दीन ने खूब विचार किया और इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि इन विद्रोहों के निम्नलिखित कारण हो सकते हैं :- …

Read More »

मुगल काल

आर्थिक जीवन – मुगल काल मुगलकाल में कृषि का विकास एवं विस्तार हुआ । मुगल शासकों विशेषकर अकबर ने कृषि के विकास हेतु अनेक प्रकार के प्रोत्साहन दिए . जैसे — बंजर भूमि पर खेती हेतु भू – राजस्व में छूट अथवा किसानों को ऋण देना । कृषि तकनीक , उपकरण अथवा पद्धति में कोई विकास नहीं हुआ । आइन …

Read More »