Thursday , 23 May 2019
Breaking News
Home / सामान्य ज्ञान / इतिहास / मध्य भारत / मुहम्मद बिन तुग़लक़

मुहम्मद बिन तुग़लक़

मुहम्मद तुग़लक़

मध्य युगीन भारतीय इतिहास में शायद ही कोई ऐसा सुलतान हुआ हो जिसका चरित्र इतिहासकारों के लिए इतना मनोरंजक तथा विवाद का विषय रहा हो जितना कि मुहम्मद तुगलक का । वह एक बदकिस्मत आदर्शवादी था और उसका शासन काल उच्च विचारों की पराजय का दुःखान्त नाटक था । वह एक ऐसा सुलतान हुआ जिसके जीवन का प्रमुख उद्देश्य अपनी प्रजा की भलाई करना था । भले ही जन – कल्याण को अपना मुख्य उद्देश्य मान मुहम्मद तुग़लक़ ने अनेक प्रयोग किए तथा नई – नई योजनाएं बनाई परन्तु अनेक कारणों से उसकी सभी योजनाएं, प्रयाग असफल हुए और वह प्रजा की श्रद्धा का पात्र बनने के स्थान पर प्रजा में बदनाम हो गया और उसकी प्रजा उसे कोसती ही रही ।
इसमें हम इसी नेकदिल परन्तु बदकिस्मत सुलतान मुहम्मद तुगलक की कल्पित योजनाओं , उसके चरित्र तथा उसके प्रशासन पर पर्याप्त रोशनी डालेंगे ।

मुहम्मद तुगलक़ का राज्य प्रबन्ध

राज्य का स्वरूप ( Nature of his State ) मुहम्मद तुगलक का राज्य मुस्लिम धार्मिक राज्य था । इसमें नागरिकता के पूर्ण अधिकार केवल मुसलमानों को ही प्राप्त थे । प्रायः मुसलमान सुलतानों का प्रमुख उद्देश्य इस ‘ काफिर भूमि ’ को ‘ इस्लाम भूमि ‘ बनाना ही था , परन्तु इब्न बतूता के अनुसार मुहम्मद तुगलक के राज्य – …

Read More »

मुहम्मद तुग़लक़ की विफलता के कारण

मुहम्मद बिन तुग़लक़ (1325-1351 ई.) यदि ध्यानपूर्वक देखा जाए तो हम इस परिणाम पर पहुंचते हैं कि मुहम्मद तुगलक की योजनाएं गलत अथवा जनता को लूटने वाली योजनाएं नहीं थीं । उनके पीछे जन – कल्याण की भावना निहित थी । मुहम्मद तुगलक वैसे एक विद्वान् तथा प्रभावशाली व्यक्ति था , परन्तु फिर भी वह एक राजा तथा शासक के रूप में सफल …

Read More »

मुहम्मद तुगलक की नीति के परिणाम

मुहम्मद तुगलक की नीति और विचित्र योजनाओं के परिणाम ( Results of Muhammad Tughlak’s Policy and Plans ) मुहम्मद तुगलक ने बहुत सी योजनाएं बनाई , परन्तु उनमें से एक भी पूर्ण न हुई । इस तरह उसकी नीति तथा योजनाओं के निम्नलिखित परिणाम निकले. मुहम्मद तुगलक की नीति के परिणाम :— धन की क्षति ( Loss of Money ) मुहम्मद …

Read More »

मुहम्मद तुगलक की कल्पित योजनाएं

गयासुद्दीन की मुत्यु के पश्चात् 1325 ई० में उसका पुत्र जूना खां सिंहासन पर बैठा । उसने मुहम्मद की उपाधि ग्रहण की । इतिहास में उसे मुहम्मद तुगलक के नाम से जाना जाता है । मुहम्मद तुगलक का इतिहास में विशेष स्थान है । वह बहुत विद्वान् , दानी , कवि तथा नई योजनाएं बनाने में सिद्धहस्त था । परन्तु उसके …

Read More »