Wednesday , 24 July 2019
Home / कंप्यूटर ज्ञान

कंप्यूटर ज्ञान

प्रिंटर

प्रिंटर

प्रिंटर प्रिंटर एक मुख्य आउटपुट डिवाइस है । इसके द्वारा प्रिण्टेड कॉपी या हार्ड कॉपी कागज पर प्राप्त की जाती है । इसे स्थायी दस्तावेज ( Permanent Document ) तैयार करने के लिए उपयोग में लाया जाता है । कम्प्यूटर प्रिंटर को मुख्यत : तीन समूहों में बाँटा जाता है :- ( 1 ) कैरेक्टर प्रिंटर ( Character Printer ) …

Read More »

कम्प्यूटर कोड्स

कम्प्यूटर कोड्स ( Computer Codes )   कम्प्यूटर में कैरेक्टर , जैसे – अल्फाबेट , संख्या या कोई चिह्न बिट्स के समूहों में स्टोर किया जाता है , जो किसी विशेष द्विआधारी पैटर्न पर आधारित होता है । ये विशेष द्विआधारी पैटर्न भिन्न – भिन्न प्रकार के होते हैं , जिसे कम्प्यूटर कोड्स कहते हैं । कम्प्यूटर कोडिंग सिस्टम विभिन्न …

Read More »

नेटवर्क टोपोलॉजी

network topology

नेटवर्क टोपोलॉजी ( Network Topology ) नेटवर्क टोपोलॉजी नेटवर्क के विभिन्न नोड या टर्मिनल को आपस में जोड़ने का एक तरीका है । यह नेटवर्क की भौतिक संरचना को व्यक्त करता है । मुख्य नेटवर्क टोपोलॉजी ( Main Network Topology ) स्टार टोपोलॉजी ( Star Topology ) इसमें किसी एक नोड को होस्ट नोड या केन्द्रीय हब ( Host Node or Central …

Read More »

चौथी पीढ़ी की भाषाएँ

चौथी पीढ़ी की भाषाएँ ( Fourth Generation Languages – 4th GL ) तीसरी पीढ़ी की भाषाओं में प्रोग्राम लिखने के लिए बहुत सारे कोड लिखने होते हैं । इनमें त्रुटि ढूँढना तथा कोई परिवर्तन करना कठिन होता है , परन्तु चौथी पीढ़ी की भाषा / 4th GL में निर्देशों की संख्या कम होती है । अत : प्रोग्राम लिखना आसान होता …

Read More »

डिजाइन टूल्स

डिजाइन टूल्स ( Design Tools ) किसी प्रोग्राम को लिखने से पहले उसके अन्तर्गत होने वाले इनपुट आउटपुट , डाटा के प्रवाह तथा लॉजिक का निर्धारण करना होता है । इसके लिए हमें डिजाइन टूल्स की आवश्यकता होती है । ये डिजाइन टूल्स निम्नलिखित है — ( a ) डी. एफ. डी. ( DFD – Data Flow Diagram ) DFD …

Read More »

प्रोग्रामिंग भाषाएँ

प्रोग्रामिंग भाषाएँ परिचय ( Introduction ) कंप्यूटर एक मशीन है, इसके लिए प्रोग्राम विशेष प्रकार की भाषाओं में लिखे जाते हैं। इन भाषाओं को प्रोग्रामिंग भाषाएँ ( Programming Languages ) कहते हैं। इन भाषाओं की अपनी एक अलग व्याकरण होती है और उनमें प्रोग्राम लिखते समय उनकी व्याकरण का पालन करना आवश्यक है। आजकल ऐसी सैंकड़ों भाषाएँ प्रचलित हैं। ये …

Read More »

तृतीय पीढ़ी एवं चतुर्थ पीढ़ी की भाषाओं में अन्तर

तृतीय पीढ़ी एवं चतुर्थ पीढ़ी की भाषाओं में अन्तर ( Difference between 3rd and 4th generation language ) क्रम तृतीय पीढ़ी की भाषाएँ चतुर्थ पीढ़ी की भाषाएँ 1. प्रोफेशनल प्रोग्रामर इसका प्रयोग करते हैं । इसका प्रयोग कोई भी कर सकता है । 2. कार्य को कैसे करना है (How) के Specification की आवश्यकता होती है । क्या कार्य करना …

Read More »